अज्ञेय का काव्य - प्रणय कृष्ण Agyey Ka Kavya - Hindi book by - Pranay Krishna
लोगों की राय

भाषा एवं साहित्य >> अज्ञेय का काव्य

अज्ञेय का काव्य

प्रणय कृष्ण

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
आईएसबीएन : 9789352210572 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :111 पुस्तक क्रमांक : 9452

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

174 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

अज्ञेय को बहुधा व्यक्तिवादी या व्यक्तिवादी कहा जाता है ! यह तय है कि अज्ञेय व्यक्तित्व को मूलगामी मानते थे, न कि सामाजिक सम्बन्धों का उत्पाद, व्यक्तित्व को अनन्यता, अद्वितीयता, मौलिकता वगैरह को उन्होंने भारी महत्त्व दिया ! अस्तित्वाद की भी इसमें एक भूमिका थी ! महत्त्व की बात लेकिन यह है कि उनका व्यक्तित्वाद भी प्रबुद्ध बुर्जुआ व्यक्तिवाद ही था जिसमें लोकतंत्र, आधुनिकता, धर्मनिरपेक्षता, मानवाधिकार के प्रति प्रतिबद्धता निहित थी ! सांस्कृतिक व्यक्तित्व होने के नाते ही व्यक्तिगत सम्बन्धों में भारत के बड़े पूँजी घरानों से जुड़ने के बावजूद वे एक अकेलापन भी भोगते हैं ! यह अकेलापन दुतरफा है ! समाज के जिस तबके में उनका जीवन बसर होता है, उसके सम्बन्ध कृत्रिम हैं ! दूसरी और उनकी दृष्टि में व्यापक जनसमाज की ‘भीड़’ और कोलाहल में व्यक्ति की निजता का कोई मोल नहीं !

लोगों की राय

No reviews for this book