श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या - बनवारी लाल कंछल Shri Ram Ki Janmabhumi-Ayodhya - Hindi book by - Banwari Lal Kansal
लोगों की राय

संस्कृति >> श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या

श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या

बनवारी लाल कंछल

प्रकाशक : मनोज पब्लिकेशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :112
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9190
आईएसबीएन :9788131018873

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

227 पाठक हैं

श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या...

Shri Ram Ki Janmabhumi-Ayodhya - A Hindi Book by Banwari Lal Kansal

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

सतयुग में महाराज मनु ने जिन सात मोक्षदायिनी नगरियों को बसाया था, उनमें से एक है-सर्वप्रथम बसाई जाने वाली नगरी अयोध्या। विभिन्न ग्रंथों में इसे साकेत, विशाखा, कौशलपुरी, अपराजिता और अवधपुरी भी कहा गया है। वैष्णव-आचार्यों का मानना है कि वैसे तो यह ‘अयोध्या’ वैकुंठनाथ की नगरी थी, लेकिन महाराज मनु इसे उनसे मांग कर लाए थे, ताकि यहां से सृष्टि की व्यवस्था की जा सके।

अयोध्या का अर्थ है-जिससे युद्ध न किया जा सके। श्रीविष्णु के अवतार श्रीराम ने इसी पुण्यभूमि पर मनुष्यरूप मंु जन्म लिया था और असुरों का संहार कर के धर्म की पुनर्स्थापना की थी।

जैन और बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए भी अयोध्या पुण्यभूमि है। विभिन्न आस्था से जुड़े स्थानों के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त होता है इस नगरी में।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book