एक सैक्स वर्कर की आत्मकथा - नलिनी जमीला Ek Sex Worker ki Aatmakatha - Hindi book by - Nalini Jameela
लोगों की राय

जीवनी/आत्मकथा >> एक सैक्स वर्कर की आत्मकथा

एक सैक्स वर्कर की आत्मकथा

नलिनी जमीला

प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2010
पृष्ठ :120
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 8839
आईएसबीएन :9788170287339

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

383 पाठक हैं

सैक्स वर्कर होने के साथ-साथ नलिनी जमीला एक बेटी, पत्नी, माँ, व्यावसायिक महिला और सोशल वर्कर भी हैं।

Ek Sex Worker ki Aatmakatha (Nalini Jameela)

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

यह पुस्तक है नलिनी जमीला की और यह है उनकी अपनी कहानी, उन्हीं की ज़ुबानी। पुस्तक के रूप में मलयालम में यह पहली बार प्रकाशित हुई, और सौ दिन के अन्दर ही इसके छह संस्करण प्रकाशित हो गये। अब तक अंग्रेजी और अन्य कई भाषाओं में यह प्रकाशित हो चुकी है। शायद ही किसी सैक्स-वर्कर ने अपने जीवन की कहानी इतने बेझिझक और बेबाक़ तरीके से कही हो। एक बेटी, पत्नी, माँ, व्यावसायिक महिला और सोशल वर्कर - और साथ में सैक्स वर्कर भी - ये उनके सभी पहलू इस आत्मकथा में उभर कर आते हैं।

यह आत्मकथा कभी रुलाती है तो कभी हँसाती है और कभी अपने दर्दनाक सच से आपको झकझोर कर रख देती है।


लोगों की राय