कहानियाँ सुनातीं यात्राएँ - कुसुम खेमानी Kahaniyan Sunati Yatrayen - Hindi book by - Kusum Khemani
लोगों की राय

यात्रा वृत्तांत >> कहानियाँ सुनातीं यात्राएँ

कहानियाँ सुनातीं यात्राएँ

कुसुम खेमानी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2012
पृष्ठ :192
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8639
आईएसबीएन :9788183615297

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

206 पाठक हैं

कहानियाँ सुनातीं यात्राएँ

Kahaniyan Sunati Yatrayen (Kusum Khemani)

यात्राएँ केवल भूगोल का नहीं, वस्तुतः अनुभव का ही विस्तार है और इस तरह हमारी जीवन-दृष्टि का भी।

इस दृष्टि से डॉ. कुसुम खेमानी की यह पुस्तक यात्रा साहित्य के मुकुट में एक और मोरपंख की तरह प्रतीत होती है।

पाठक इन यात्रा-निबंधों को पढ़ते हुए अनुभव करेंगे कि ये यात्राएँ जितनी बाहर की हैं, उससे कहीं अधिक भीतर की भी हैं। भौगोलिक धरातल पर लेखिका सौ कदम चलती हैं तो आनुभूतिक धरातल पर हज़ार कदम। भीतर-बाहर की यह उड़ान अपना एक ऐसा अन्तरिक्ष रचती है जहाँ तारे भी हैं, मेघ भी और सात नहीं, अनेक रंगों वाला इन्द्रधनुष भी।

शैली यहाँ बतरसर की है और अन्दाज़-ए-बयाँ किस्सागो का। यही कारण है कि निबंध, कहानी, संस्मरण जैसी विधाएँ अपनी सरहदों को लाँघकर यहाँ जैसे एकमेक हो गई हैं। यात्रा-साहित्य के चिर-परिचित स्वाद में यह सीधा हस्तक्षेप है और डॉ. कुसुम की सर्जनात्मक मौलिकता का साक्ष्य भी।

हरिद्वार, कश्मीर, उज्जयनी, कोलकाता, शिलांग, हैदराबाद से लेकर उर्बन, रोम, बर्लिन, स्विट्जरलैंड, प्राग, मास्को, मिश्र, मॉरिशस, भूटान और अलास्का तक जैसे समस्त ब्रह्मांड को यहाँ मथ दिया गया है और इस मंथन से जो अनुभव-अमृत निकलता है, वह अब आपके सामने है।



अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book