तट पर हूँ तटस्थ नहीं - कुँवर नारायण Tat Par Hun Par Tatastha Nahin - Hindi book by - Kunvar Narayan
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> तट पर हूँ तटस्थ नहीं

तट पर हूँ तटस्थ नहीं

कुँवर नारायण

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2010
पृष्ठ :172
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8236
आईएसबीएन :9788126719518

Like this Hindi book 2 पाठकों को प्रिय

313 पाठक हैं

‘तट पर हूँ पर तटस्थ नहीं’ पिछले एक दशक में कुँवर नारायण द्वारा विभिन्न लेखकों, कवियों, पत्रकारों को दी गई भेंटवार्त्ताओं का एक प्रतिनिधि चयन है।

Tat Par Hun Par Tatastha Nahin by Kunwar Narayan

कुँवर नारायण हमारे समय के उन अप्रतिम लेखकों में से हैं, जिन्होंने हिन्दी कविता में ही नहीं बल्कि पूरे भारतीय साहित्य में अपनी एक सशक्त और अमिट पहचान बनाई है।

‘तट पर हूँ पर तटस्थ नहीं’ पिछले एक दशक में कुँवर नारायण द्वारा विभिन्न लेखकों, कवियों, पत्रकारों को दी गई भेंटवार्त्ताओं का एक प्रतिनिधि चयन है। कुछ भेंटवार्त्ताओं में संवाद हैं, कुछ में अपने साहित्य और समय के प्रश्नों से गहराई में जाकर जूझने की कोशिश है और कुछ में प्रश्नों के सीधे और स्पष्ट उत्तर हैं।

कुँवर नारायण हिन्दी के उन चुने हुए लेखकों में से हैं जो इंटरव्यू विधा को धैर्य और पर्याप्त गम्भीरता से लेते हैं। यही कारण है कि उनकी भेंटवार्त्ताओं के किसी भी चयन का महत्त्व उनकी समीक्षा पुस्तकों से कम नहीं है। उनकी कुछ लम्बी भेंटवार्ताएँ उतनी ही महत्त्वपूर्ण हैं जितनी उनकी समीक्षाएँ या विचारपरक निबन्ध।

‘तट पर हूँ तटस्थ नहीं’ का सम्पादन विनोद भरद्वाज ने किया है जो कुँवर नारायण की प्रारम्भिक भेंटवार्त्ताओं के संग्रह ‘मेरे साक्षात्कार’ का भी सम्पादन कर चुके हैं। पिछले चार दशकों से भी अधिक समय से विनोद भारद्वाज कुँवर नारायण के निकट सम्पर्क में रहे हैं। वह उनके समय-समय पर कई लम्बी भेंटवार्त्ताओं का संयोजन भी कर चुके हैं। यह पुस्तक हिन्दी ही नहीं, भारतीय साहित्य के सभी अध्येताओं के लिए अत्यन्त महत्त्वपूर्ण साबित होगी। कुँवर नारायण के जीवन और साहित्य दोनों का ही एक अच्छा परिचय इस पुस्तक में मौजूद है। इंटरव्यू विधा प्रश्न-उत्तर, संवाद, डायरी, आत्मस्वीकृति, निबन्ध और समीक्षा की दुनिया में एक अद्भुत आवाजाही का माध्यम बन जाती है।



अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book