फाँस - विजय गौड़ Phaans - Hindi book by - Vijay Gaur
लोगों की राय

उपन्यास >> फाँस

फाँस

विजय गौड़

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :276
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10464
आईएसबीएन :9788126320646

Like this Hindi book 0

विभाजन की त्रासदी के बाद पुनर्निर्माण की प्रक्रिया और उसके समानान्तर चलती 'विकास' की गतिविधियों को इस उपन्यास में परिभाषित करते हैं.

युवा लेखक विजय गौड़ विभाजन की त्रासदी के बाद पुनर्निर्माण की प्रक्रिया और उसके समानान्तर चलती 'विकास' की गतिविधियों को इस उपन्यास में परिभाषित करते हैं. स्वातन्त्र्योत्तर देश में किसके हिस्से कितनी आज़ादी आयी, किसके हिस्से की रौशनी लूट ली गयी, चन्द प्रतिशत लोगों ने किस प्रकार अपार जनसमुदाय के अधिकारों का संहार किया और हाशिये के लोग किन साज़िशों के तहत ठिकाने लगा दिए गए--ऐसे जाने कितने सवाल हैं जो कथावस्तु में गूँजते रहते हैं. यथार्थ को व्यक्त करने के लिए लेखक निम्नवर्गीय जन-जीवन को रचना के केन्द्र में रखता है.

लोगों की राय

No reviews for this book