कविता पहचान का संकट - नवलकिशोर नवल Kavita : Pahchan Ka Sankat - Hindi book by - Nand Kishore Naval
लोगों की राय

आलोचना >> कविता पहचान का संकट

कविता पहचान का संकट

नवलकिशोर नवल

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2006
आईएसबीएन : 8126312270 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :310 पुस्तक क्रमांक : 10399

Like this Hindi book 0

डा. नन्दकिशोर नवल हिन्दी के सुपरिचित आलोचक हैं जिनका कार्य-क्षेत्र मुख्य रूप से कविता है. प्रस्तुत कृति 'कविता : पहचान का संकट' उनके कविता-सम्बन्धी लेखों का नया संग्रह है

डा. नन्दकिशोर नवल हिन्दी के सुपरिचित आलोचक हैं जिनका कार्य-क्षेत्र मुख्य रूप से कविता है. प्रस्तुत कृति 'कविता : पहचान का संकट' उनके कविता-सम्बन्धी लेखों का नया संग्रह है, जो हिन्दी काव्यालोचन को धुरी पर रखने और उसे रचना के पाठ तथा पाठक-वर्ग से जोड़ने का एक सुन्दर प्रयास है. इसमें उन्होंने कबीर से लेकर बिलकुल हाल के कवियों तक की कविता को विषय बनाया है और उसमें निहित 'कवित्व' को संकेतित करते हुए उसके मूल्यांकन की चेष्टा की है.

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book